Tuesday, 6 December 2016

Purple Pen Poetry Meet/Kavy Goshthi

Purple Pen Poetry Meet/Kavy Goshthi on 04-12-2016 at Lodhi Gardens, New Delhi in news.पर्पल पेन की 7वीं काव्य गोष्ठी ~ पोयट्री इन द पार्क ~ की ख़बर गौतमबुद्ध नगर से प्रकाशित 'हमारा मेट्रो' और भोपाल से प्रकाशित 'लोकजंग' अख़बारों में
हार्दिक धन्यवाद आदरणीय लाल बिहारी लाल जी और सैफुद्दीन सैफी जी 
================================================


Monday, 5 December 2016

पर्पल पेन की सातवी काव्य गोष्ठी


"कल ४/१२/२०१६ को पर्पल पेन की सातवी काव्य गोष्ठी लोधी गार्डन नई दिल्ली में आयोजित की गयी। कवि -कवित्रियों ने एक समां बांध दिया जिसमे उपस्थित सभी रचनाकारों ने ( A S Ali Khan ji, Dildar Dehlvi ji, Lal Bihari Lal ji, Jai Prakash Gautam ji, Shiv Ojha ji, Tribhawan Kaul ji, Dr. Deo Narain Sharma ji, DrGurvinder Banga ji, Arvindd Kern ji, Vivek Sharma Aastik ji, Ashoksapra Sapra ji, Raz Dehalwi ji, Rudra Vikram Singh ji, Abhishek kumar Ambar , शुभदा बाजपेयी जी, अरुणा शर्मा जी, वन्दना गोयल जी, श्यामा अरोड़ा जी। )अपनी रचनाएँ तो पढ़ी ही साथ ही श्रोताओं में/ सैलानियों में उपस्तिथ एक काव्य प्रेमी ने भी इस आयोजन में भाग लिया। हमारे साथ साथ इस आयोजन की साक्षी बने  प्यारी सी कड़क मौसमी धूप , हलकी बयार, आते जाते, रूकते -सुनते -देखते सैलानी और पीछे विशालकाय  गोल गुम्बद।  इस शानदार आयोजन के लिए सुश्री वसुधा कनुप्रिया जी को  और पर्पल पेन  के  सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई। 

=================================================

हाइकू श्रृंखला -1

हाइकू श्रृंखला -1
----------------
आतंकी साया
दो कबूतर साथ
अमरनाथ
------------------
घंटी -अज़ान 
पड़ौसी परेशान 
जै हिन्दुस्तान
------------------
आकाश गंगा
दैवी दीपों की माला
हर्षो उल्लास 
------------------

सर्वाधिकार सुरक्षित / त्रिभवन कौल

Saturday, 26 November 2016

Trauma ( Translated into French )

Trauma ( Translated into French )

Dear friends

This is the fourth poem which has been translated into French by none other than  Honourable Athanase Vantchev de Thracy, World President of Poetas del Mundo , undoubtedly one of the greatest poets of contemporary French.
=======================================

Trauma

--------------
She wakes up
Trembling, frightened, pale faced and humiliated
Day and night
When humans become inhumane
And  shame has no place to hide.

Hunted before the crowds
Molested behind the bushes
Raped in the moving cars
Relatives, friends, goons, terrorists or
By political czars.

Mentally mauled, physically abused
Everyone looks on but never rescued
Nightmarish moments never out of sight
Living dead or deadly living
Soul and body always in fright.

 Tender age matters to none
Everything she dreams, is undone
In a flash, everyone jumps in
To encash
Her innocence, her trauma, her conscience
For five minutes of fame
Putting even THE GOD in shame.
++++++++++++++++++++++++++

Traumatisme

Elle se réveille
Tremblante, effarouchée, livide et humiliée
Jour et nuit
Quand les humains deviennent inhumains
Et qu’elle n’a nul endroit pour cacher sa honte.

Traquée au milieu des foules,
Molestée derrière les buissons,
Violée dans les voitures qui roulent
Par des parents, des amis, des nervis, des terroristes ou
Par les tsars de la politique.

Malmenée dans son esprit, maltraitée dans sa chair, 
Tous voient ça, mais jamais ne lui viennent en aide,
Des instants de cauchemar qu’elle ne révèle à personne,
Vivant dans la mort et morte dans la vie,
L’âme et le corps toujours frissonnant.

Son jeune âge ? Personne ne s’en soucie,
Tout ce à quoi elle rêve tombe en ruine,
En un éclair, chacun se précipite pour profiter
De son innocence, de son traumatisme, de sa conscience –
Pour cinq minutes de gloriole
Faisant honte à Dieu lui-même.

Translated into French by Athanase Vantchev de Thracy
=================================================
Vantchev Athanase de Thracy is undoubtedly one of the greatest poets of contemporary French. Born on January 3, 1940, in Haskovo, Bulgaria, the extraordinary polyglot culture studied for seventeen years in some of the most popular universities in Europe, where he gained deep knowledge of world literature and poetry.


Athanase Vantchev de Thracy is the author of 32 collections of poetry (written in classic range and free), where he uses the whole spectrum of prosody: epic, chamber, sonnet, bukoliket, idyll, pastoral, ballads, elegies, rondon, satire, agement, epigramin, etc. epitaph. He has also published a number of monographs and doctoral thesis, The symbolism of light in the poetry of Paul Verlaine's. In Bulgarian, he wrote a study of epicurean Petroni writer, surnamed elegantiaru Petronius Arbiter, the favorite of Emperor Nero, author of the classic novel Satirikoni, and a study in Russian titled Poetics and metaphysics in the work of Dostoyevsky.
============================================


Friday, 25 November 2016

AN ODE TO 26/11/2008

AN ODE TO 26/11/2008*
--------------------------------

I salute those
massacred at CST
martyred at the TAJ
felled in the line of duty
facing military type attack
composure retained
in spite of barbaric brutality.

I salute
the brave commoner
saving lives, though horrified
the fire-fighter, the bravery personified
local policemen, who dared to fight back
seeking to pay back
the nanny who saved the child
when at Chabad,
terrorists had gone wild.

I salute
a widow watching her dreams shattered
India should survive,” she thought,
that is what most mattered.”

I salute
the day 26/11
withstanding the carnage
when everyone jumped in
to limit the damage.

I salute
the never say die spirit of Mumbaites
for resistance shown
making every effort to comfort
known or unknown.

Giving befitting reply to
sinister designs of Pakistan
India has always survived
because my country is known as
Bharat, also Hindustan.
--------------------------------------

*A note from the poet :- The day 26 November 2008 still lingers. On this day Mumbai (financial capital of India) was attacked by Pakistan based and supported terror organisations. Approx 164 were dead and 308 wounded. Resilience shown by Indian paramilitary forces and citizens was remarkable.

*The poem has been published in 'Refreshing Writes'


images curtsy google.com

Wednesday, 23 November 2016

आम आदमी की कवितायें


आम आदमी की कवितायें
-------------------------
“गाँधी जी के तीन बंदर
तीनो मेरे अन्दर
कुलबुलाते हैं
बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो, बुरा मत कहो
पर देखता हूँ, सुनता हूँ, कहता हूँ. क्यों ?
क्यूंकि मैं एक आम आदमी हूँ”


कवि त्रिभवन कौल की उपर्युक्त पंक्तियाँ उनकी कविताओं का घोषणा पत्र सरीखी हैं।  प्रत्येक साहित्य- सिद्धान्त , नैतिक व आदर्शवादी सीमाओं से परे जा कर आम होते हुए भी अपना अस्तित्व तलाशती यह कवितायें निश्चित रूप से मुक्तिबोध की पंक्तियों का पुनः उद्घोष करती जान पड़ती हैं। 

"विचार आते हैं 
बच्चों की नेकर फचीटते
मरते हुए सांप , पिछवाड़ा "

मुक्तिबोध के उलट यह आम आदमी कवि त्रिभवन कौल का शिल्पगत वैशिष्ट्य है जिसका उत्स कवि के कथन में ' मैं साहित्यकार होने का दावा नहीं करता ' से फूटता प्रतीत होता है।  'मन ', 'कबाड़ीवाला ', 'बस ','बेबसी ', 'रमणीय' तथा 'दुख' इस संग्रह की सर्वश्रेष्ठ कवितायें हैं।  जिसमे कवि एक आम आदमी की तरह पाठक को अपनी अनुभूतियों से साक्षात कराता है।  

कवि में उन्नत वैचारिकी का आभाव नहीं , अनुभूति की वह गहराई भी है जो सर्वकालिक साहित्य चेतना को गहरे प्रभावित कर सके और अभिव्यक्ति की वह ऊंचाई भी जो पाठक को चमत्कृत कर दे।  ' बेबसी ' शीर्षक कविता में कवि की रचनात्मक संवेदनशीलता एक प्रतीमा का क्या ही सुंदर मनोविश्लेषण प्रस्तुत करती है।

आधी अधूरी प्रस्तर की प्रतिमा को
डर नहीं लगता अब
छेनी और हथोड़े से
डर लगता है तो शिल्पी के मनोस्थिति से

हिंदुस्तानी भाषा अकादमी, दिल्ली से प्रकाशित कवि त्रिभवन कौल रचित ' बस एक निर्झरणी भावनाओं की ' शीर्षक यह संग्रह विशाल  हिंदी परिक्षेत्र में अपनी अलग पहचान कायम करे , इन्ही शुभकामनाओं सहित। 
जय कृष्ण शुक्ल
लेखक,कवि, व्यंग्यकार, और सपांदक
पदरौना (उ प्र )

17-11-2016

Bas Ek Nirjharni Bhawnaon Ki (Hindi) available with:-
_/\_दोस्तों पुस्तक उपलब्ध है :- प्रकाशक :- हिंदुस्तानी भाषा अकादमी , 3675 , राजापार्क, रानीबाग़ , दिल्ली -110034 या अमेज़न डॉट इन (amazon.in) पर I


Tuesday, 22 November 2016

'बस एक निर्झरणी भावनाओं की '


मेरे  द्वारा रचित मेरा तीसरा काव्यसंग्रह    'बस एक निर्झरणी भावनाओं की ' मेरे सम्मानीय साहित्य मनीषियों /  मित्रों के शुभ हाथों में . अपने सभी मित्रों से आग्रह करता हूँ की आप अमेज़न डॉट इन पर जाकर अपनी राय या स्टार वोटिंग ज़ाहिर करें।  तहे दिल से शुक्रिया।  
http://www.amazon.in/dp/8193272102
Bas Ek Nirjharni Bhawnaon Ki (Hindi) available with:-
_/\_दोस्तों पुस्तक उपलब्ध है :- प्रकाशक :- हिंदुस्तानी भाषा अकादमी , 3675 , राजापार्क, रानीबाग़ , दिल्ली -110034 या अमेज़न डॉट इन (amazon.in) पर I
================================================