Wednesday, 15 February 2017

आगमन मासिक काव्य संगोष्ठी फरवरी -2017.













Pawan Jain
आगमन मासिक काव्य संगोष्ठी फरवरी -2017.

रविवार 12 फरवरी को गाँधी शांति प्रतिष्ठान नयी दिल्ली में आगमन समूह की मासिक काव्य संगोष्ठी सम्पन्न हुयी ...इस गोष्ठी में मुख्य अतिथि उस्ताद शायर श्री मंगल नसीम एवं कार्यक्रम अध्यक्ष डॉ अशोक मधुप रहे ....गोष्ठी में विशिष्ट अतिथि के रूप में श्री त्रिभवन कौल , कर्नल केशव सिंह , डॉ मधु चतुर्वेदी , श्रीमती कुसुम शर्मा , श्री महेंद्र मधुकर , श्रीमती सीमा खेडा , श्री सुजीत मुख़र्जी , श्री चैतन्य चेतन की शिरकत रही ..., श्रीमती रश्मि जैन ( महासचिव आगमन ) , वरिष्ठ शायर श्री अशोक पंकज , श्री शब्द मसीहा, श्री आर सी शर्मा , श्रीमती वर्षा जैन सहित अनेक साहित्य सुधीजनों का विशिष्ट सानिध्य रहा ....इस अवसर पर आगमन समूह द्वारा श्री मंगल नसीम को ‘शान-ए-अदब , श्री अजय अक्स को ‘आगमन गौरव सम्मान ‘ एवं श्रीमती ममता लड़ीवाल को ‘आगमन युवा प्रतिभा सम्मान ‘ से अलंकृत किया गया ...श्रीमती भूपिन्दर कौर को आगमन समूह की दिल्ली प्रदेश की संयुक्त प्रदेश प्रभारी का मनोनयन पत्र भी इस अवसर पर प्रदान किया गया .
माँ शारदे के समक्ष माल्यापर्ण एवं दीप प्रज्वलन के पश्चात डॉ अशोक मधुप द्वारा सुमधुर सारगर्भित माँ शारदे की वन्दना से काव्य संगोष्ठी की शुरुआत हुयी ..तीन घंटे चली इस काव्य संगोष्ठी में श्रीमती निधि मुकेश भार्गव , श्री विजय स्वर्णकार , श्री विनोद कुमार वर्मा , श्रीमती ममता लड़ीवाल, श्रीमती माधुरी स्वर्णकार , श्रीमती कीर्ति रतन , श्रीमती मनीषा जोशी , श्रीमती श्यामा अरोरा , श्रीमती शीतल गोयल , श्रीमती भूपिन्दर कौर , सुश्री प्रीति दक्ष , श्री अनिमेष शर्मा , श्री सुरेन्द्र शर्मा , श्री मनोज कामदेव शर्मा , श्री आज़ाद ठाकुर , श्री विकास जैन , डॉ स्वीट एंजेल , श्री अजय अक्स , श्री अजय अज्ञात , श्री जगदीश भारद्वाज , श्री चैतन्य चेतन , कर्नल केशव सिंह , श्री सुजीत मुख़र्जी , श्री त्रिभवन कौल , श्री इंद्रजीत सुकुमार , श्री कृष्णानन्द तिवारी , श्री ए एस अली खान , श्रीमती कुसुम शर्मा , डॉ मधु चतुर्वेदी , डॉ अशोक मधुप , श्री मंगल नसीम आदि कविजनो ने अपने गीत , गजलो एवं काव्य की समस्त विधाओ में अपनी रचनाये सुनाकर संगोष्ठी को अविस्मर्णीय स्वरूप दिया ..काव्य गोष्ठी का सफल सञ्चालन सुश्री प्रीति दक्ष एवं श्रीमती शीतल गोयल ने किया
संगोष्ठी के सफल आयोजन के लिए टीम आगमन के सभी सदस्यों , संगोष्टी में प्रतिभागी सभी कवि एवं शायरों का दिल से शुक्रिया/Pawan Jain
=====================================




Saturday, 11 February 2017

Benevolent ( Translated into French )

 Benevolent ( Translated into French )
-----------------------------------------------
Dear friends
This is the seventh  poem of mine  which has been translated into French by none other than Honourable Athanase Vantchev de Thracy, World President of Poetas del Mundo , undoubtedly one of the greatest poets of contemporary French.
================================================
Benevolent
-------------------
Mother nature
provides in abundance
for her children to feed
unabashedly they perform C-sections
to satiate their greed.

She is hacked  to death every day, every minute
like a golden goose
her sons and daughters make merry
forgetting they are tightening themselves
their own noose.

Yet being a mother, she does not tweet
reserving  them a berth
for ancestors to meet 
and offers her body for carving  out
a place measuring, six by two feet.
-------------------------------------------------
All rights reserved/Tribhawan Kaul

Bienveillance

Notre Mère Nature
Fournit en abondance
De quoi se nourrir à ses enfants.
Et eux, sans vergogne,
Lui infligent mille blessures
Pour assouvir leur cupidité.

Elle est exploitée à mort chaque jour, chaque minute
Comme la poule aux œufs d’or.
Ses fils et ses filles se divertissent
Oubliant qu'eux-mêmes resserrent
Le nœud coulant
Autour de leur cou.

Pourtant, en tant que mère, elle ne chante pas
Le jour où elle trouve un lieu tragique
Où ils peuvent rencontrer leurs ancêtres
Et leur offre son corps pour qu’ils y creusent
Un trou de six pieds sur deux.

Traduit en français par Athanase Vantchev de Thracy
Translated by Athanase Vantchev de Thracy
---------------------------------------------------------------------------------
Born on January 3, 1940, in Haskovo, Bulgaria, the extraordinary polyglot culture studied for seventeen years in some of the most popular universities in Europe, where he gained deep knowledge of world literature and poetry.
Athanase Vantchev de Thracy is the author of 32 collections of poetry (written in classic range and free), where he uses the whole spectrum of prosody: epic, chamber, sonnet, bukoliket, idyll, pastoral, ballads, elegies, rondon, satire, agement, epigramin, etc. epitaph. He has also published a number of monographs and doctoral thesis, The symbolism of light in the poetry of Paul Verlaine's. In Bulgarian, he wrote a study of epicurean Petroni writer, surnamed elegantiaru Petronius Arbiter, the favorite of Emperor Nero, author of the classic novel Satirikoni, and a study in Russian titled Poetics and metaphysics in the work of Dostoyevsky.
============================================



Saturday, 4 February 2017

द्विपदी -12 (Couplet-12)

द्विपदी -12 (Couplet-12)
-------------------------------

आंसुओं का नर -नारी से एक गहरा सा नाता है 

नारी के बहे ज़ज़्बात,नर का दर्प मिट जाता है।

aansuon kaa nar-naari se ek ghera saa naata hai

naari ke behe jazbaat, nar kaa darp mit jaata hai.
------------------------
सर्वाधिकार सुरक्षित /त्रिभवन कौल

Friday, 3 February 2017

How to write a poem ? My Take

How to write a poem ?  My Take
-----------------------------------------
A good poem must be the one which presents its readers an idea or ideas through thought provoking imagery allowing a reader to visualize and understand the subject matter. A poem has to be a poem not prose. It means a poem which is developed through various stanzas in any form/type/structure should use minimum words/sentences to convey its imagery and meaning to its readers. It may be rhythmical or may not be. It may be a short or a long poem. Thoughts in brevity of words/sentences should bring out subtle meaning than meeting the eyes as a poem becomes open to different interpretations by different readers.  A poet gets a reader only when one grasps the idea, visualizes the imagery presented, understands the theme, type and structure of the poem. In fact, I feel, a poem should be written for the masses and not for the classes (i.e. for academic purposes).

My experience guides me that a readable poem must have some basic features:-

Topic of the poem and poetic device to be used should be well thought over. Ideas keep creeping up in our minds while observing our surroundings, pondering over the happenings around us or something which shock/enthrall us. A poet being sensitive to these activities feels like jotting down ideas or register those in his/her mind only to be penned later. Wordsworth said, I quote. “Poetry is the spontaneous overflow of feelings: it takes its origin from emotion recollected in tranquility.” Unquote.  However, these overflowing feelings / ideas need to be refurbished with the richness of language and effective thought presentation in such a way that a reader can read and understand what is said in between the lines.  

Presentation should be in simple language, in flowing style and must strictly confine to poetic norms if any of the poetic types like etheree, haiku/senryu , acrostic, sonnet, limerick , etc. is used. Though poems in free verse enjoy liberty of expressing the feelings/emotions freely, yet such poems should not sound like prose ones. The structure of such poems has to be maintained purely in poetic form. Such poems need to have a constant flow of thoughts (rhyming becomes optional) with some sort of mystery around the creation for readers to be curious to read.

Powerful imagery is an essential ingredient for writing a good poem. It is this part which creates an effect in the minds of readers presenting a visual picture in their minds like a sculptor beginning sculpting its creation till its finalization.

Articles, prepositions, adjectives and qualifiers etc. can be used only if these are at all necessary.

Use of proper nouns instead of abstract nouns e.g  car, dog, table instead of a vehicle, an animal, the furniture etc. is recommended.

Use of metaphors, similes, pun, personification, hyperbole etc. enhance the beauty of a poem, stir the emotions of a reader and add a value to the imagery of a poem.

Though punctuations don’t seem to be usually a part of the poem, but it can be used to create greater impression while reading or reciting a poem. However out of place punctuations do disturb the rhythm of a poem.

Each and every poem, I feel, expresses some sort of truth and intensity of emotions. Readers should be able to identify with the poet’s thoughts/emotions and feel one while exploring a poem. Poems should present universal truth which may be political, historical, ethical, moral, personal or dealing with contemporary subject.

In the end I quote Dylan Thomas “Poetry is what in a poem makes you laugh, cry, prickle, be silent, makes your toe nails twinkle, makes you want to do this or that or nothing, makes you know that you are alone in the unknown world, that your bliss and suffering is forever shared and forever all your own”
============================================
writtern by Tribhawan Kaul
Freelance writer-poet/India
kaultribhawan@yahoo.co.in

03-02-2017

Wednesday, 1 February 2017

काव्य गोष्ठी :29-01-2017:"गणतंत्र दिवस और बसंत पंचमी के उपलक्ष्य में













Shri A S Khan wrote:
 "गणतंत्र दिवस और बसंत पंचमी के उपलक्ष्य में रविवार, 29 जनवरी को सृजनात्मक समूह पर्पल पेन की काव्य गोष्ठी जंतर मंतर स्मारक पर सफलतापूर्वक सम्पन्न हुई । दिल्ली और एनसीआर के लगभग 15 कवियों व कवयित्रियों ने पहले देशभक्ति से ओतप्रोत ओजपूर्ण रचनायें सुनाकर गणतंत्र दिवस पर राष्ट्र और शहीदों को नमन किया । गोष्ठी के दूसरे सत्र में बसंत पर मनोहारी और सुंदर गीत, छंद, दोहे, ग़ज़ल, मुक्तक आदि प्रस्तुत कर वसंतोत्सव मनाया । सामाजिक सरोकार की रचनायें के माध्यम से कवियों ने विभिन्न विषयों पर अपनी संवेदना और विचार भी सामने रखे । सर्व सुश्री/श्री इंदिरा शर्मा, त्रिभवन कौल, नीलोफ़र नीलू, ऐ स अली ख़ान, रजनी रामदेव, विवेक शर्मा आस्तिक, मीनाक्षी सुकुमारन, लाल बिहारी लाल, शिव प्रभाकर ओझा, मंजु वशिष्ठ राज, डाॅ सीमा गुप्ता शारदा, राज भदौरिया, मनीषा चौहान, अशोक सपड़ा, जय प्रकाश गौतम और अरविंद कर्ण ने अपना काव्य पाठ से सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया । श्रोताओं में पर्पल पेन के सदस्यों सुश्री हिमानी कश्यप, श्री रमेश पठानिया, श्री दिनेश गोस्वामी, श्री रामदेव, श्री गुप्ता व जंतर मंतर घूमने आये पर्यटकों ने भी भरपूर आनंद लिया। 'रंग दे बसंती' काव्य गोष्ठी का समापन करते हुए पर्पल पेन समूह की संस्थापक और संचालक वसुधा 'कनुप्रिया' नें सभी रचनाकारों व श्रोताओं के प्रति आभार व्यक्त किया ।"

Friday, 27 January 2017

A Date with.........?

A Date with.........?
---------------------------------
Screech, bang, crash, living dead
Giant SUV turning turtle painting road red
Animals and creatures come in hordes
Ready to gulp bait, crocodiles at crossroad
Goose bumps appearing and disappearing
Out of line ants and deer falling
Snakes, trying to wriggle out
Lizards getting sudden bout
Angles and demons flying around
Cries and groans of dead abound
Banging of doors and clanging of bells
Shattering of silence frozen in hell
Sliding down a black hole
Please God ! Save my soul
Losing faith, breaking down
In my seat shrinking down
Wide eyed absorbing the brutal shock
“Is she alive ? Why wearing white frock?”
Want to scream and shout
Run run but bolted out
Dreadful chill through the spine
Someone whispers, “you are miiiiiine”
Sweat sprouts fountain like
Watching my ancestor holding the mic
 “Come out of stupor my poor child !
 Forget the damn accident and don’t rewind”
Frenzied activities slow the pace
My wife’s love only saving grace
Am I possessed ? No. Let me tell you fair and square
Just having another date with this stupid nightmare.
-----------------------------------------------------------------------

All rights reserved/Tribhawan Kaul

Wednesday, 25 January 2017

लाली का सपना (एक लघु कथा)


लाली का सपना (एक लघु कथा)

-----------------------------------------------

सोलह साल की उम्र में सपनो को भी पर लग जाते हैं I  वह सपने जिनका जीवन की आपा धापी से कुछ लेना देना नहीं I एक बार देखने लग जाओ तो अफीम जैसा चस्का लगा देतें हैं यह सपने I बस देखते ही रहो, सोते जागते देखते ही रहो I लाली भी नवयौवन के उन सपनो में अपना संसार बसा सकती थी। वह सपने जो उसके जीवन में कभी भी पूरे नहीं हो सकते थे I पर वह देखती थी क्यूंकि उसके पास जीवित रहने के लिए सपनों के सिवाय कुछ भी तो नहीं था I सपने ही उसको ज़िंदा रखे हुई थे I सपने अगर उसके साथी नहीं होते तो शायद वह कब का इस दुनिया को छोड़ कर चली जाती, अपनी माँ की तरह I पर सपनो में वह ताकत है जो पूरे होने लगे तो मरते हुए इंसान में भी एक बार जान फूंक दे I अपने सपनो को पूरा करने का सपना।   ज़िंदगी को  भरपूर जीने का सपना I अपने प्यार के साथ रहने का सपना।  कुछ बनने का सपना।  कुछ कर गुजरने का सपना।  सपने तब सपने नहीं रह जाते।  एक उद्देश्य पूर्ती का साधन  बन, तीव्र इच्छा का रूप धारण कर लेते हैं। सपनो में अगर किसी मनुष्य  में निष्क्रयता की भावना लाने का सामर्थ्य है तो किसी में  उन सपनो को साकार करने का मन्त्र एक हताश हुए इंसान में जान फूंकने का कार्य भी करते हैं।  सपनो की इस ताकत को बड़े से बड़े वैज्ञानिकों ने, दर्शन शास्त्रियों ने स्वीकारा है। लाली के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। लाली ने केवल एक ही सपना देखा था I माँ की इच्छा पूर्ण करने का I जब सपने इच्छा का रूप धारण कर लेतें हैं तो दृढ  इरादे वाले, दृढ इच्छा शक्ति वाले उन सपनो को पूरा करने में एड़ी चोटी का ज़ोर लगा देते  हैं I लाली की मां का सपना उसको पढ़ा लिखा कर उसे ज़िंदगी की उन ऊंचाइयों को प्राप्त कराना था जहां लाली किसी भी सुख सुविधा से वंचित ना रह सके I  उसका लक्ष्य एक ही था लाली को स्कूल भेजना। यही उसका सपना भी था

मां के  उसी सपने को लाली पूरा करने में लगी थी।  लाली  एक कुशल , बुद्धिमान, और स्वाभिमानी लड़की थी।  शीघ्र ही उसने स्कूल में वह मुकाम हासिल कर लिया जो किसी भी स्कूल के लिए गर्व की बात हो सकती थी I उसने 12 क्लास में उच्च्तम श्रेणी में सफलता हासिल कर ना केवल स्कूल का नाम रोशन किया अपितु आगे की शिक्षा दीक्षा के लिए सरकार से वजीफा भी प्राप्त किया। 

दस बरस बीत गए. आज लाली भारत सरकार के एक प्रतिष्ठित संस्थान  में एक ऊंचे पद पर भारत का नाम रोशन कर रही है I

जो केवल सपने ही देखतें रह जाते हैं, सपने कभी भी उनका साथ नहीं छोड़ते और उनके सपने सपने ही रह जातें हैं। पर जो सपनों को साकार करने में जुट जातें हैं उनके सपने तो पूरे होते ही हैं अन्य  सपनो को साकार करने की वजह भी मिल जाती है I

=====================================

सर्वाधिकार सुरक्षित/त्रिभवन कौल